Astrology Learning in Hindi

Antic Things

पुरानी बेवसाइट ज्योतिष सीखिये के लिये यहाँ क्लिक कीजिये

Bhavishya Phal 2013

You are Welcome to Learn Vedic Astrology !

Astrology is popular since Vedic Kal. It is also known as the sixth organ of Veda. Identification/calculation
of the time is not possible without knowledge of time.

Untill the power of Astrology was obscure, Till then it was a misconception that the Earth was
stationary, and Sun, Moon and Stars considered to be in motion. But as soon as the concept of Astrology
came in knowledge then it revealed that the Sun is stationary, and the other planets are in motion. But
our Rishis and Manishis were aware about the facts of Astrology for a long time.Infact they had great
knowledge about Mars. And they told the few things about Mars that time.

We’ve been listening for a long time,”Lal deh Lali lase aur dhari Lal Langoor, Vajra deh
danav dalan Jai Jai kapi shoor”. This Doha was written by Shri Tulsidas ji, But this is very shocking that
how come he knows about the Mars, how does he know, That it’s colour is Red, and when we try to see
it with eyes, it seems to be of red colour. Seems to be as hard as Vajra, the reason behind is that it has
been dried up. Apart from this the colour of the flag is Red, this makes the reason of the presence of The
Mars.They wrote about the Hanuman- Lord of the Mars. This was more justified when America launched
a Sattelite named Viking via Nasa, and in year 2000 they sent some images. In these Images one image
named “Face of Mars” was also sent. This image was similar to the picture of Lord Hanuman. They did
not publish this image till year 2000.The reason behind this was, they feel that they are very mature and
ingenious in the field of science. When any tourist arrives to india and see any Hanuman Temple, they
make a mockery and call it “Monkey Temple”. This image named Face of Mars ended their Science
Conception and they had to believe that in India we believe in Mars as Lord Hanuman.

Astrology begins where Science Ends-

The science can be divided into Physics, Chemistry etc.

Except of that there is one more element, which exists as Guru, Neither science has prooved it nor
it can. For an example, we can talk about our body, it can examine the organs of our body from head
to foot. It can measure our bones, muscles, blood pressure, fat, Heart Beat, it can replace our body
organs by artificial ones, and may make them able to work. Can increase the quantity of blood by fibre
blood, But the most important thing is the breath of life, which is “Guru”. Which can not be produced by
science. When the time comes, their breath of life comes to an end and the body is dead. Then science
can explain only the reason.like they can say the heart failed, brain stopped working, there was lack of
something, Bla-Bla-Bla. Till today they could not explore what is Guru. Science does not have enough
power that it can explore the Physical property of Guru. The day when Guru will be understood then the
science will be known as paravigyaan.

Translation in Hindi (Devbhasha)

आपका स्वागत है

वैदिक काल से ज्योतिष का प्रचलन रहा है। ज्योतिष वेद का छठां अंग भी कहा जाता है। समय की पहिचान बिना ज्योतिष के ज्ञान के नही हो सकती है। इसी प्रकार से आसमानी गह भी ज्योतिष से ही कालान्तर के लगातार ज्ञान को प्राप्त करने के कारण ही पहिचाने जाते है। जब तक ज्योतिष का ज्ञान नही था तब तक पृथ्वी स्थिर थी और सूर्य चन्द्रमा और तारे चला करते थे। जैसे ही ज्योतिष का ज्ञान होने लगा तो पता लगा कि सूर्य तो अपनी ही कक्षा मे स्थापित है बाकी के ग्रह चल रहे है। लेकिन ऋषियों और मनीषियों को बहुत पहले से ज्योतिष का ज्ञान था उन्हे प्रत्येक ग्रह के बारे मे जानकारी थी,यहां तक कि मंगल ग्रह के बारे मे भी उनका ज्ञान प्रचुर मात्रा मे था और उन्होने मंगल ग्रह की पूरी गाथा पहले ही लिख दी थी। पुराने जमाने से सुनता आया हूँ- "लाल देह लाली लसे और धरि लाल लंगूर,बज्र देह दानव दलन जय जय कपि शूर",इस दोहे को लिखा तो तुलसीदास जी है लेकिन उन्हे इस बारे मे कैसे पता लगा कि मंगल का रंग लाल है और जब मंगल को खुली आंख से देखा जाये तो लाल रंग का ही दिखाई देता है सूखा ग्रह है इसलिये बज्र की तरह से कठोर है,साथ ही ध्वजा पर लाल रंग का होना मंगल का उपस्थिति का कारण भी बनाता है,मंगल के देवता हनुमान जी के विषय मे उन्होने लिखा था। इस बात का सटीक पता तब और चला जब अमेरिका के नासा स्पेस से वाइकिंग नामका उपग्रह यान मंगल पर भेजा गया और उसने जब सन दो हजार में मंगल के ऊपर की कुछ तस्वीरे भेजी तो उसके अन्दर एक फ़ेस आफ़ मार्स के नाम से भी तस्वीर आयी। यह तस्वीर बिलकुल हनुमान जी की तस्वीर की तरह थी,इस तस्वीर को उन्होने सन दो हजार दो तक नही प्रसारित की,इसका भी कारण था,वे अपने को बहुत ही उन्नत और वैज्ञानिक भाषा मे दक्ष मानते थे और जब भी उनका कोई टूरिस्ट भारत आता था और भारत मे जब हनुमानजी के मंदिर को देखता तो वह मजाक करता था और "मंकी टेम्पिल" कह के चला जाता था। इस फ़ेस आफ़ मार्स ने अमेरिका के वैज्ञानिक धारणा को चौपट कर दिया और उन्हे यह पता लग गया कि भारत मे तो आदि काल से ही मंगल को हनुमान जी के रूप मे माना जा रहा है।

विज्ञान जहाँ समाप्त हो जाता है वहाँ से ज्योतिष विज्ञान शुरु होता है !

जिस प्रकार से विज्ञान के अन्दर जो भी धारणा पैदा की जाती है उसके अनुसार रसायन शास्त्र भौतिक शास्त्र चिकित्सा शास्त्र आदि बनाये गये है। लेकिन जितनेी तत्व विज्ञान की कसौटी पर खरे उतरते है उनके अन्दर केवल चार तत्व की मीमांसा ही की जा सकती है। बाकी का एक तत्व जो गुरु के रूप मे है वह विज्ञान न तो कभी प्रकट कर पाया है और न ही कभी अपनी धारणा से प्रकट कर सकता है। शरीर विज्ञान को ही ले लीजिये,सिर से लेकर पैर तक सभी अंगो का विश्लेषण कर सकता है,हड्डी से लेकर मांस मज्जा खून वसा धडकन की नाप आदि सभी को प्रकट कर सकता है कृत्रिम अंग बनाकर एक बार शरीर के अंग को संचालित कर सकता है। फ़ाइवर ब्लड को बनाकर कुछ समय के लिये खून की मात्रा को बढा सकता है लेकिन जो सबसे मुख्य बात है वह है प्राण वायु यानी गुरु की वह पैदा नही कर सकता है जब प्राण वायु को शरीर से जाना होता है तो वह चली जाती है और शरीर मृत होकर पडा रह जाता है उसके बाद शरीर वैज्ञानिक केवल पोस्ट्मार्टम रिपोर्ट को ही पेश कर सकता है कि ह्रदय रुक गया मस्तिष्क ने काम करना बन्द कर दिया अमुक चीज की कमी रह गयी और अमुक कारण नही बन पाया। नही समझ पाये आज तक कि गुरु क्या है लेकिन ज्योतिष शास्त्र मे सर्वप्रथम गुरु का विवेचन समझना पडता है गुरु जिस स्थान से शुरु होता है अपने अन्तिम समय तक केवल काल की अवधि तक ही सीमित रहता है उसे कोई पकड नही पाया अपने अनुसार पैदा नही कर पाया और न ही विज्ञान के अन्दर इतनी दम है कि वह भौतिक रूप से गुरु को प्रदर्शित कर सके। जिस दिन यह गुरु भौतिकता मे समझ मे आने लगेगा उस दिन विज्ञान की परिभाषा पराविज्ञान के रूप मे जानी जायेगी।

Doer is someone else, and we accuse others

As the “Navgrah” defines, the body which is GURU changes its behaviour according to its enviornment.
In a healthy enviornment he makes himself a honest man, and in a bad enviornment, he ends up
as an dishonest person. But except there are several factors which are responsible for changing the
behaviour of GURU.Let’s take Saturn it makes him sly and makes him sloppy. But due to cunnning nature
and laziness the need of food cannot be ignored.Whenever GURU feels hungry, then he will show his
cunning nature and will understand the need of shelter.and in the mean time the people whoi are
learners, who can differentiate between the wrong and right will blame to GURU because of Saturn.they
will say”That x person is thief, lazy, sly.” But that’s not permanent, as sooner as GURU changes its place
with time, that person becomes more honest yhan a normal man and the people who teach the lesson
of honesty, they becomes dishonest when Saturn affects them, It is only the time, as the person who
sits on the seat of a judge and punishes the criminal, and when the time changes he has to accept the
punishment as an criminal.

Definition of the Karma:-

The Object can be categorised into three parts

I) Sanchit karma
II) Prabadh Karma
III) Kriyaman karma

Lets talk about all of them:-

Sanchitkarma is the work you did till today. The second which is prabadh work is the work which we
have done earlier or in past, and the third is kriyamann karma, which is going on now, and we will have
to pay for this in future.

The structure of the object based on our breathe, as the availabilty of the breath depends
upon our sanchit Karma, the existance of air in our body depends upon kriyamann karma, and the
end of the breathe comes under the prabadh karma. If the Sanchit is good, and our kriyaman was also
good, then the prabadh will also be good. And if Sanchit is not good, and Kriyaman is bad then it is not
necessary that the breathe will exist in our body.In the outer structure of object it can be of three types,
Sat, Raj and Tam. And the affect of these three can be easily seen in the world. And what we seen is
called physical. And which is obscure is called spritual.from the moment when the body started and the
moment till it ends, till then the objects will be visible.and the foundation of the Astrology is based on
these objects. When we will think about the Object?, we will think when there will be a need and then
the real picture of the object will be seen.

As sooner as the object appears it will be defined as object or karma.The work wich which
is completed in its limitation, without teasing others, is called satvik karma.and from beginning to
its completion it is processed according to the speed of time. The object which is performed for a

particular reason, without carring of others, does not care for any bodies life or death, the object
started to take revenge along with anger, for the sake of competition considered as Raj, politics, do
business without considering others profit or loss and dfo work to earn more money comes in the Raj
category. Sometimes there are certain works which are different as they are seen, without a specific
reason these works are done, may be they can produce profit or losethese are considered in Tam
category. And to do those works sometimes one has to spend his whole life, sometimes other do that in
seconds, and sometimes one has to spend his generations but do not able to do that work.

Body is the driver of the Object:-

third one is Reasoning Body.

Major body is that which is visible to everyone, does the work, which talks and respond according to
others and takes the decision, but it decompses when the time comes, than Micro body leaves around
us.people can only feel that but unable to see it.when there is end of Micro body, only Reasoning body
is left. As sooner as the Micro and Macro bodies are decomposed only Reasoning body is left.Macro
body is linked with the soul, as the soul leaves the body, there is an end of Macro Body, when the body
is decomposed the soul enters into another body, and the soul is not concern with the body and the
work done by the body from the birth till the End, it is assumed to complete the journery of seven
catagories. When they are accomplished, the Soul gets Moksha.

Seven planets and two shades affect the human behaviour-:

There are two personalities of Human, the first one is External, and the another is Internal.Sun, Mars,
Saturn, Venus, Jupiter, Moon, Mercury affects the external behaviour. And Rahu and Ketu affects the
body internally.The affect of Sun and Moon is very Stark, Sun gives light, heat. Seasons Vary according
to the Sun.Moon affects the water of body and the part which has water of the surface. The persons
behaviour depends on the planet ray in ehich he has taken birth.if the effect is low , he will have a
lesser life, and vice verca.all the rashis are in control of Sun, but to possess them and to utilize them,
various planets are in the existance. Moon is responsible for the action thinking, and for the action
of expressing.and Mars is responsible to make sun set, and enables it to rise next day on time.Budh
controls the Rashis which belongs to Sun. Guru gives breathe, Shukra gives the power of life, shani
responsible for the work, whether its good or bad, and can destroy the body and gets it power from
Sun.Rahu and Ketu make some impromptu cases, and tries to confuse and also provide the solution of
confusion.

कर्ता कोई और है और दोष किसी को दिया जाता है

नवग्रह की भाषा मे जीव जो गुरु के रूप मे है वह जिस माहौल मे जाता है उसी माहौल के प्रकार का बन जाता है। ईमान्दारी की जलवायु मे रहने पर वह ईमानदार रहता है और बेईमान के साथ रहने पर वह बेईमान बन जायेगा। लेकिन गुरु को जो कारक स्वभाव को बदलने के लिये प्रेरित करते है वह गुरु के अलावा है,जैसे शनि चालाकी भरता है और गुरु को आलसी बना देता है,चालाकी और आलसी के आगे भूख तो खत्म नही हो जायेगी,गुरु को जब भूख लगेगी तो वह चालाकी करेगा अपने लिये भोजन और अपने निवास की जरूरत को समझेगा,इस बीच मे जो लोग चालाकी और ईमानदारी को समझते है वह शनि के असर के कारक गुरु

को दोष देने लगेंगे और कहेंगे कि अमुक व्यक्ति चोर है वह आलसी है वह हमेशा दूसरो के साथ अपघात करता है,लेकिन यह बात हमेशा के लिये नही होती है जैसे ही गुरु अपने स्थान को समय के साथ बदलता है वही चोर आदमी ईमादार से भी बढ कर काम करने लगता है,और जो ईमानदारी का पाठ पढाने वाले होते है वह शनि की चपेट मे आकर बेईमानी करने लगते है। समय के फ़ेर मे एक मनुष्य जो जज की कुर्सी पर बैठ कर अपराधी को दंड देता है और जब समय घूमता है तो वही जज एक अपराधी की तरह से प्रकृति का दंड स्वीकार भी करता है और सजा को भी भुगतता है भले ही उसके कारक बदल गये हों।

कर्म की परिभाषा

कर्म तीन प्रकार के होते है एक संचित कर्म जो वर्तमान तक किया गया है,दूसरा प्रारब्ध कर्म यानी जो हम पहले का किया भोग रहे है साथ ही जो अभी चल रहा है वह क्रियमाण कर्म कहलता है इसका किया हम आगे जाकर भोगेंगे.कर्म की रूप रेखा सांसों पर निर्भर है जैसे सांस का आना संचित कर्म सांस का शरीर मे रुकना क्रियमाण कर्म और सांस का जाना प्रारब्ध कर्म की सीमा मे आजायेगा,अगर संचित सही है और क्रियमाण सही रहा है तो प्रारब्ध भी सही होगा और संचित गलत है और क्रियमाण भी गलत है तो जरूरी नही है कि शरीर मे सांस का आना हो। कर्म की बाहरी रूप रेखा मे तीन प्रकार माने जाते है सत रज और तम इन तीनो कर्मो का प्रभाव द्रश्य संसार मे दिखाई देता है और जो दिखाई देता है वह भौतिक कहलाता है,जो नही दिखाई देता है वह आध्यात्मिक कहलाता है। शरीर जब से शुरु हुआ है और जब तक रहेगा तब तक यह कर्म द्रश्य रूप से सामने रहेंगे और इन्ही कर्मो पर ज्योतिष की नींव टिकी हुयी है। कर्म के लिये कब सोचा जायेगा सोचा जब जायेगा जब जरूरत होगी फ़िर कर्म का वास्तविक रूप सामने लाया जायेगा इस प्रकार के भौतिकता का समावेश शुरु हो जायेगा जैसे ही कर्म सामने आता है वह कर्म के रूप मे प्रतिभाषित किया जाता है। जो मर्यादा से बिना किसी को दुख दिये कर्म पूरा हो जाता है उसे सात्विक कर्म कहते है और इसे शुरु करने से लेकर आखिरी तक समय की गति से पूरा किया जाता है,जो कर्म किसी उद्देश्य विशेष से किया जाता है किसी के प्रति चिन्ता नही की जाती है कोई मरे या जिये कोई लेना देना नही होता है कर्म के साथ क्रोध की भावना बदला लेने की भावना एक दूसरे की प्रतिस्पर्धा मे किया जाने वाला काम रज के रूप मे माना जाता है राजनीति करना और शत्रुता को निपटाने के लिये भोजन को प्राप्त करने के लिये नौकरी आदि करना व्यापार करने के समय किसी का भला बुरा नही सोचना और धन की बढोत्तरी के लिये कर्म को किये जाना रज कर्म की श्रेणी मे आता है,इसी प्रकार से कभी कभी वह काम किये जाते है जो देखने मे कुछ होते है और सामने उनका रूप कुछ और ही होता बिना किसी उद्देश्य के कर्म किये जाते उन कर्मो से हानि भी हो सकती है लाभ भी हो सकता है यानी बिना कर्म की निश्चित माप को प्राप्त किये जाते है वह कर्म तम की श्रेणी मे आते है और उन कर्मो को करने के लिये कोई कोई अपना पूरा जीवन निकाल देता है कोई उस कर्म को क्षण मात्र मे कर लेता है कई बार कई पीढिया इस प्रकार के कर्म को करने के लिये अपनी आहुति दे देती है लेकिन कर्म फ़िर भी पूरा नही हो पाता है।

कर्म के लिये साधन शरीर को बनाया गया है

शरीर के तीन भाग होते है एक स्थूल शरीर होता है एक स्थूल शरीर दूसरा सूक्ष्म शरीर तीसरा कारण शरीर,स्थूल जो सामने दिखाई देता है कर्म करता है बात करता है लोगो के लिये कहे सुने अनुसार उसका जबाब देता है और सुन कर निर्णय वाली बात भी करता है समय आने पर यह स्थूल शरीर नष्ट हो जाता है और सूक्ष्म शरीर लोगो के आसपास रह जाता है लोग महसूस करते है लेकिन देख नही पाते है सूक्ष्म की गति समाप्त होते ही कारण शरीर का रह जाना माना जाता है जैसे ही स्थूल और सूक्ष्म का विनास हो गया कारण शरीर रह जाता है,स्थूल शरीर का आत्मा से सम्बन्ध रहता है आत्मा के जाते ही स्थूल शरीर का विनास हो जाता है,शरीर के विनास होने के बाद आत्मा दूसरे शरीर मे प्रवेश कर जाती है और शरीर तथा किये गये कर्मो का सम्बन्ध आत्मा से नही रहता है।जन्म के लेने से अन्तिम गति को प्राप्त करने तक आत्मा की सात श्रेणियों की यात्रा को पूरा करना माना जाता है जैसे ही आत्मा सातो श्रेणियों को पूरा कर लेती है वह मोक्ष को प्राप्त कर लेती है यह श्रेणी ही कुंडलिनी जागरण के लिये मानी जाती है.

सात ग्रह और दो छाया ग्रह मानव व्यक्तित्व को प्रभावित करते है

मानव के दो व्यक्तित्व होते है एक बाह्य व्यक्तित्व और दूसरा आन्तरिक व्यक्तित्व,सूर्य चन्द्र मंगल बुध गुरु शुक्र शनि साथ ग्रह बाह्य रूप से मानव शरीर को प्रभावित करते है और राहु केतु दो छाया ग्रह आन्तरिक रूप से मानव के व्यक्तितो को प्रभावित करते है। सूर्य और चन्द्रमा का प्रत्यक्ष प्रभाव देखा जाता है सूर्य से गर्मी मिलती है प्रकाश भी मिलता है सूर्य के अनुसार ही ऋतुयें आती जाती है चन्द्रमा के द्वारा शरीर का पानी और धरातल का जलीय क्षेत्र प्रभावित होता है,यह बात समुद्र मे आने वाले ज्वार भाटा से सिद्ध हो चुकी है। जिस प्रकार की ग्रह रश्मियों के प्रभाव मे जातक का जन्म होता है उसी प्रकार का प्रभाव जातक के जीवन मे बना रहता है,कम प्रभाव होने पर कम जीवन और अधिक प्रभाव होने पर अधिक जीवन का मिलना होता है जो भी होता है वह कर्मो को पूरा करने के लिये होता है। सूर्य के अन्दर ही सभी रश्मिया है लेकिन उन्हे अपने पास रखने के लिये और उनका प्रयोग करने के लिये अलग अलग ग्रह अपना अपना आस्तित्व रखते है जैसे मन की क्रिया सोचने की क्रिया भावना को व्यक्ति करने की क्रिया पानी को स्थिर और उछालने वाली क्रिया को चन्द्रमा पूरा करता है सूर्य की गर्मी को सोने और समय पर उसे प्रस्तुत करने के लिये मंगल का रूप बना है सूर्य से जो भी रश्मिया आती है जाती है उन्हे कन्ट्रोल करने के लिये बुध अपना प्रभाव देता है किसे कम देना है किसे अधिक देना है का काम बुध करता है गुरु जीवन वायु को प्रदान करता है शुक्र जीवन की शक्ति को प्रदान करता है शनि कर्म और विकर्म करवा कर शरीर का विनाश करने के लिये अपनी गति को सूर्य से प्राप्त करता है। राहु केतु आकस्मिक कारण पैदा करते है और शंका आदि के लाने पर शंका की पूर्ति के लिये शरीर को साधन आदि देत

आगे पढे ग्रहो का प्रभाव और आस्तित्व

Unless otherwise stated, the content of this page is licensed under Creative Commons Attribution-ShareAlike 3.0 License